इंतज़ार शायरी : Shayari Guru

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,लम्हें तो अपने आप मिल जाते हैं,कौन पूछता है पिंजरे में बंद परिंदों को,याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं..

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,लम्हें तो अपने आप मिल जाते हैं,कौन पूछता है पिंजरे में बंद परिंदों को,याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं।

आज तो दिल ने ही धमकी दी है!!!याद करना छोड़ दे उसेनही तो धड़कना छोड़ दुँगा !!!!

आज तो दिल ने ही धमकी दी है!!!याद करना छोड़ दे उसेनही तो धड़कना छोड़ दुँगा !!!!

आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद,
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह,
लाख ये चाहा कि उसे भूल जाये पर,
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह ।

आँखो को इंतजार की सोगात सोप कर,मोहब्बत खुद आराम से कही सो जाती है,ज़िस्म करवट बदलता है रात भर अकेला ,रूह तेरी गलीयो की बंजारन हो जाती है..

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं,
जब तक ना कर लें दीदार आपका,
तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं।

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही तो याद करती हैं,
जब तक देख न लें चेहरा आपका,
हर घडी आपका ही इंतज़ार करती हैं।

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो

अपनी सांसों में महकता पाया है तुझे,हर खवाब मे बुलाया है तुझे,क्यू न करे याद तुझ को,जब खुदा ने हमारे लिए बनाया है तुझे..

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Last